Monday, May 23, 2016

Maa माँ

principal, A.S. Public School, लखनऊ - "विभा प्रकाश"  द्वारा  लिखी एक कविता
जो स्थानीय दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित हुई थी दिल छू लेने वाली है -

तेरे आँचल की छाँव तले ,
हर ग़म जीवन के मिट जाते.

जब मिलती हूँ तुमसे मैं माँ ,
खुशियों के पुष्प हैं खिल जाते .

मैं दूर बहुत हूँ माँ तुमसे,
पर सदा हृदय के पास हो तुम.

जब देखूं दरपन में ख़ुद को,
नयनों में अक्स दिखे तेरा .

बस यही मेरी तमन्ना है ,
सदियों तक साथ मिले तेरा.

-विभा प्रकाश

No comments:

Post a Comment

Pl. comment about this.